कोलकाता नाइट राइडर ने बंगलुरु चैलेंजर्स को चार विकेट से हराया, आरसीबी आईपीएल से बाहर | लखीमपुर खीरी कांड मामले में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा का बेटा अशीष मिश्रा गिरफ्तार | लखीमपुर खीरी पुलिस ने 12 घंटे तक की ही लगातार पूछताछ जांच में सहयोग नहीं करने पर पुलिस ने किया गिरफ्तार | पुलिस के अनुसार आरोपी आशीष मिश्रा से पुलिस ने 40 सवाल पूछे थे जिन पर कई सवालों का जवाब वह नहीं दे पाए | लगातार बदसलूकी के बाद डेविड वॉर्नर ने SRH को कहा अलविदा, जाते-जाते लिखा भावुक मैसेज | मप्र में बिजली संकट: खंडवा के पॉवर प्लांट में 2 दिन का कोयला, 50 प्लांट में 10 दिन का स्टॉक |

मप्र उप चुनाव : अपने "मंत्रियों" की जासूसी करा रही सरकार, शिवराज को डर, कहीं 'निपटा' नहीं दें

मप्र उप चुनाव : अपने
Mpdunia politikal desk, Oct 23, 2021 10:40 AM भोपाल। मध्यप्रदेश में एक लोकसभा व चार विधानसभा सीटों पर हो रहे उपचुनावों में अब भाजपा खासकर शिवराजसिंह चौहान कोई रिस्क लेने के मूड में नहीं है। वह किसी भी कीमत पर चारों विस चुनाव जीतना चाहते हैं। खासकर पार्टी में अंदर ही अंदर हो रहे विरोध से पार पाने की लगातार कोशिश में जुटे शिवराजसिंह चौहान भी अब अपने मंत्रियों की भी निगरानी करा रहे हैं। यहीं वजह है कि सरकार ने इन सभी सीटों पर अपने जासूस छोड़ दिए है। जो पल पल की खबरें शिवराज तक पंहुचा रहे हैं। दरअसल हर सीट पर भेजे गए मंत्रियों में से दो-तीन पर 'सरकार' को बिल्कुल भरोसा नहीं है। सिंधिया की बदौलत मिली सत्ता में अपनी चौथी पारी में शिवराजसिंह चौहान सहज महसूस नहीं कर रहे हैं। सरकार में कुछ मंत्री खुलकर मुख्यमंत्री का विरोध भी कर चुके हैं। एक मंत्री तो विपक्ष के प्रमुख कहे नेताओं को साधे रखने के लिए उनका कोई काम नहीं रोकते हैं। वहीं चुनाव क्षेत्र में भेजे गए कुछ मंत्रियों के ठीक से काम नहीं करने की शिकायत भी है। इसके चलते भी उनकी जासूसी कराई जा रही है। सरकार को डर है कि कहीं मंत्री निपटा न दें, इसलिए इनके साथ संगठन के पदाधिकारियों को अटैच किया गया। पहले स्थानीय नेताओं से मंत्रियों की हर दिन रिपोर्ट ली गई तो अब उनकी जासूसी भी हो रही है। 'सरकार' को खबरी पल-पल की जानकारी भेज रहे हैं। मंत्री किससे मिल रहे हैं, क्या कर रहे हैं। बंद कमरों में किसके साथ बैठक कर रहे हैं। फील्ड में कितना घूम रहे हैं। भाजपाई सूत्रों ने बताया कि एक मंत्री चुनाव प्रचार में कम, पार्टियां करने में ज्यादा व्यस्त थे, जबकि उन्हें संगठन ने भीतरघात रोकने जैसी अहम जिम्मेदारी दी है। जब यह जानकारी सरकार तक पहुंची, उन्होंने उनके पीछे जासूस छोड़ दिए। एक मंत्री के बारे में यह भी फीडबैक आया कि वे विरोधियों से भी मेल-मुलाकात कर रहे हैं। शिवराज का पहला मिशन है विस के चारों उपचुनाव जीतना ताकि वे हाईकमान को बता सके कि अभी चौहान चुके नहीं है।

छोटी बहू ने ही रची साजिश, इंदौर के बर्तन कारोबारी के घर...

छोटी बहू ने ही रची साजिश, इंदौर के बर्तन कारोबारी के घर चोरी का हुआ खुलासा

Mpdunia desk इंदौर। इंदौर के बर्तन कारोबारी के घर से एक करोड़ रुपये की चोरी के मामले का खुलासा पुलिस ने...

मध्यप्रदेश का दिलचस्प मामला: उपयंत्री ने लिखा पत्र, कहा-...

मध्यप्रदेश का दिलचस्प मामला: उपयंत्री ने लिखा पत्र, कहा- ओवैसी बाल सखा , संघ प्रमुख भागवत शकुनि मामा, सीनियर से भी उसी भाषा में मिला जवाब

Mpdunia desk, इंदौर। मप्र के आगर जिले की सुसनेर जनपद पंचायत में बड़ा ही दिलचस्प मामला सामने आया है। यहां...

MPPSC प्रारंभिक परीक्षा 2020 के नतीजे घोषित*

MPPSC प्रारंभिक परीक्षा 2020 के नतीजे घोषित*

भोपाल। मध्यप्रदेश लोक सेवा आयोग ने राज्य सेवा एवं राज्य वन सेवा (प्रारंभिक) परीक्षा 2020 के नतीजे...

आखिर चार घंटे क्यों छुपाई गई मृत्यु ? कहीं व्यापम की अहम...

आखिर चार घंटे क्यों छुपाई गई मृत्यु ? कहीं व्यापम की अहम कड़ी को तो रास्ते से नहीं हटाया गया ? हनीट्रैप कांड़ में उलझाने वालों को मंत्री क्यों बनाया गया ?

आखिर चार घंटे क्यों छुपाई गई मृत्यु ? कहीं व्यापम की अहम कड़ी को तो रास्ते से नहीं हटाया गया...