उत्‍त्‍राखंड के 10 वे मुख्‍यमंत्री बने तीरथसिंह रावत, देहरादून में राजभवन में ली शपथ | वेस्टइंडीज के कप्तान कायरन पोलार्ड ने एक ओवर में लगाए छह छक्के, श्रीलंका के खिलाफ t 20 मैच में किया कारनामा |

Madhya Pradesh Congress: कमलनाथ ने अरुण यादव को मनाया, प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ को नहीं बताई गई थी बाबूलाल चौरसिया की पृष्ठभूमि

Madhya Pradesh Congress: कमलनाथ ने अरुण यादव को मनाया,  प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ को नहीं बताई गई थी बाबूलाल चौरसिया की पृष्ठभूमि
एमपीदुनिया न्यूज़ भोपाल। गोडसे समर्थक बाबूलाल चौरसिया को कांग्रेस में लाने पर पार्टी में उठा विवाद थम गया है। प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ और पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अरुण यादव के बीच हुई बातचीत के बाद यह मामला खत्म माना जा रहा है। सूत्र दावा करते हैं कि चौरसिया को कांग्रेस में सामान्य कार्यकर्ता की तरह लाया गया और उनकी पृष्ठभूमि के संबंध में पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ को जानकारी नहीं दी गई। चौरसिया मामले पर सबसे पहले प्रदेश कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष अरुण यादव मुखर हुए थे। उन्होंने विचारधारा का सवाल उठाते हुए चौरसिया के कांग्रेस में आने को लेकर पार्टी नेताओं विशेषकर कमलनाथ को कठघरे में खड़ा किया था। विवाद ने तूल भी पकड़ा और कमलनाथ समर्थकों ने अरुण यादव का सार्वजनिक तौर पर विरोध भी किया था। मामला संवेदनशील होने के चलते कमलनाथ ने समझौते की पहल की। सूत्रों का कहना है कि कमलनाथ ने अरुण यादव से फोन पर बात की और उन परिस्थितियों के बारे में बताया, जिनमें चौरसिया को कांग्रेस में शामिल कराया था। मतलब यह है कि कमलनाथ को चौरसिया के बारे में पूरी जानकारी नहीं थी। स्थानीय नेताओं के कहने पर कमलनाथ ने औपचारिकता निभाई थी। वहीं, अरुण यादव ने स्पष्ट किया कि मैने कमलनाथ का विरोध नहीं किया था, बल्कि विचारधारा का मुद्दा उठाया था। बहरहाल, पार्टी फोरम पर इस विवाद के निराकरण की तैयारी हो चुकी है। दरअसल, कुछ ही महीनों में पूरे प्रदेश में स्थानीय निकाय के चुनाव होने हैं। इसे लेकर कांग्रेस दबाव में है। वह इस चुनाव को 2023 के विधानसभा चुनाव का सेमीफाइनल मान रही है। कमल नाथ 2018 में विधानसभा चुनाव में जीत के साथ यह समझ चुके हैं कि कांग्रेस में गुटबाजी होने पर नुकसान उठाना पड़ सकता है। नगर निगम चुनाव से ठीक पहले यदि गोडसे जैसे किसी मुद्दे पर पार्टी में बिखराव दिखता है, तो इसका अच्छा संदेश कार्यकर्ताओं के बीच नहीं जाएगा। अरुण यादव मालवा में कांग्रेस के दिग्गज नेताओं में शुमार हैं, लेकिन 2018 में कमल नाथ सरकार के सत्ता में आने के बाद से लगातार सियासी हाशिए पर चले गए हैं। पिछले साल मार्च में कांग्रेस सरकार के सत्ता से बाहर होने के बाद भी उनकी पूछ परख पार्टी में कम हुई है। विस उपचुनाव में भी उन्हें कमलनाथ और दिग्विजय सिंह की जोड़ी ने खास महत्व नहीं दिया। ओबीसी वर्ग का प्रतिनिधित्व करने वाले अरुण यादव अपनी उपेक्षा से आहत हैं, जिसकी झलक गोडसे को लेकर दिए बयान में भी दिखी। यादव ने चौरसिया को कांग्रेस में लाने पर आपत्ति जताते हुए यहां तक कह दिया था कि उन्हें सियासी नफे-नुकसान की भी चिंता नहीं है। फिलहाल कमलनाथ ने सार्वजनिक रूप पर कोई टिप्पणी नहीं की, लेकिन सूत्र बताते हैं कि ऐसे नेताओं के बयानों और उनके तेवर पर पार्टी ने पूरी नजर रखी है। मप्र कांग्रेस महासचिव मीडिया केके मिश्रा ने कहा कि वैसे भी यह वैचारिक विवाद था। इसका पटाक्षेप हो चुका है। सारे नेता प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के नेतृत्व में भाजपा से चुनावी लड़ाई के लिए एकजुट है।

आखिर चार घंटे क्यों छुपाई गई मृत्यु ? कहीं व्यापम की अहम...

आखिर चार घंटे क्यों छुपाई गई मृत्यु ? कहीं व्यापम की अहम कड़ी को तो रास्ते से नहीं हटाया गया ? हनीट्रैप कांड़ में उलझाने वालों को मंत्री क्यों बनाया गया ?

आखिर चार घंटे क्यों छुपाई गई मृत्यु ? कहीं व्यापम की अहम कड़ी को तो रास्ते से नहीं हटाया गया...

मध्य प्रदेश हाईकोर्ट ने नगरीय निकायों के अध्‍यक्ष व...

मध्य प्रदेश हाईकोर्ट ने नगरीय निकायों के अध्‍यक्ष व महापौर पद के आरक्षण पर लगाई रोक

एमपी दुनिया न्यूज़ ग्वालियर। मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय की ग्वालियर खंडपीठ ने नगर निगम, नगर...

भाजपा पर बिफरे विधायक, हमारा कसूर यह है कि हम 35-35 करोड़ में...

भाजपा पर बिफरे विधायक, हमारा कसूर यह है कि हम 35-35 करोड़ में नहीं बिके, सतीश सिकरवार बोले हाथ ठेला हटाये तो हम सड़क पर उतरेंगे

एमपीदुनिया न्यूज़ ग्वालियर। हमारा अपराध यह है कि हम बिके नहीं और हमने 35-35 करोड़ रूपये नहीं लिये...

एसा क्या हुआ कि आरक्षक मीनाक्षी वर्मा सीधे बैठ गई गृह...

एसा क्या हुआ कि आरक्षक मीनाक्षी वर्मा सीधे बैठ गई गृह मंत्री की कुर्सी पर

एमपीदुनिया न्यूज़ भोपाल। अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने 8...

प्राचीन काल से महिलाएं समाज का गौरव बढ़ा रही हैं - उषा...

प्राचीन काल से महिलाएं समाज का गौरव बढ़ा रही हैं - उषा ठाकुर  महिला दिवस के अवसर पर कोरोना काल की वीरांगनाओं का इंदौर प्रेस क्लब में हुआ सम्मान

एमपीदुनिया न्यूज़ इंदौर। अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर इंदौर प्रेस क्लब द्वारा प्रेस...